आंध्र प्रदेश में नांदयाल विधानसभा उपचुनाव के लिए मतदान जारी

0
334

नांदयाल| आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले में नांदयाल विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव के तहत बुधवार को मतदान हो रहे हैं। यहां सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गया, जो शाम छह बजे तक चलेगा। इस सीट से मुख्य मुकाबला तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) और वाईएसआर कांग्रेस के बीच है। इस चुनाव के लिए 2.19 लाख से अधिक मतदाता मतदान करने के योग्य हैं। इसके लिए 255 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।
निर्वाचन आयोग पहली बार वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) का इस्तेमाल कर रहा है, जिससे मतदाता जान पाएंगे कि उन्होंने किन्हें वोट दिया।
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से जुड़े वीवीपीएटी सात सेकंड तक उस उम्मीदवार का नाम दिखाएंगे, जिनके लिए मतदाता ने वोट डाला होगा।
राजनीतिक रूप से संवेदनशील निर्वाचन क्षेत्र में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं, ताकि शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चत किया जा सके।
मतदान पर नजर रखने के लिए एक ड्रोन कैमरा, 259 बॉडी-ऑन कैमरा और 60 सीसीटीवी कैमरों का इस्तेमाल किया जा रहा है।
चुनाव अधिकारी वेब कास्टिंग कैमरों के माध्यम से मतदान प्रक्रिया की निगरानी कर रहे हैं। बूथों पर 1,600 से ज्यादा कर्मियों को तैनात किया गया है।
इस सीट के लिए उपचुनाव विधायक भुमा नागी रेड्डी के निधन के बाद हो रहे हैं, जो पिछले साल वाईएसआर कांग्रेस को छोड़कर सत्ताधारी तेदेपा में शामिल हो गए थे।
चुनाव मैदान में कुल 15 उम्मीदवार हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला तेदेपा और वाईएसआर कांग्रेस के बीच माना जा रहा है। तेदेपा ने भुमा के रिश्तेदार ब्राह्मणंदा रेड्डी को मैदान में उतारा है, जबकि वाईएसआर कांग्रेस की ओर से सिल्पा मोहन रेड्डी मैदान में हैं। वहीं, कांग्रेस के उम्मीदवार अब्दुल खादर हैं।
तेदेपा और वाईएसआर कांग्रेस, दोनों ने इस सीट को जीतने के लिए धुआंधार प्रचार अभियान चलाया। तेदेपा की ओर से जहां स्वयं मुख्यमंत्री व पार्टी अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व में प्रचार किया गया, वहीं वाईएसआर कांग्रेस ने पार्टी अध्यक्ष वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी के नेतृत्व में अभियान चलाया।
वहीं, कांग्रेस का आरोप है कि उक्त दोनों पार्टियों ने चुनाव प्रचार पर बहुत अधिक खर्च किया है।
पर्यवेक्षकों का मानना है कि यह अब तक सबसे खर्चीला उपचुनाव हो सकता है।
इस सीट के लिए हो रहे उपचुनाव की मतगणना 28 अगस्त को होगी।