उत्तराधिकारी के लिए तेदेपा के वरिष्ठ नेताओं ने चुनावी दंगल से किया किनारा

0
30

अमरावती : आंध्रप्रदेश की राजनीति में युवा पीढ़ी दायित्व संभालने को पूरी तरह तैयार है क्योंकि सत्ताधारी तेलुगू देसम पार्टी (तेदेपा) के मंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं ने अपने राजनीतिक उत्तराधिकारियों को मौका देने के लिए चुनावी दौड़ से बाहर रहने का मन बना लिया है।

मुख्यमंत्री और तेदेपा के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू शायद अकेले इसके अपवाद हैं क्योंकि अप्रैल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी द्वारा गुरुवार को घोषित 126 उम्मीदवारों की सूची में वह और उनके पुत्र नारा लोकेश दोनों के नाम शामिल हैं।

कर्नूल जिला में तेदेपा के मजबूत नेता और उपमुख्यमंत्री के.ई. कृष्णमूर्ति ने अपने पुत्र के.ई. श्याम बाबू के पट्टीकोंडा से उम्मीदवारी के लिए चुनावी दौड़ से बाहर रहने का फैसला लिया है।

नायडू के मंत्रिमंडल में दूसरी प्रमुख मंत्री परिताला सुनीता अपने बेटे परिताला श्रीराम के रपथाडु से उम्मीदवारी के लिए चुनाव नहीं लड़ने का फैसला लिया है। अनंतपुर जिला स्थित इस सीट को परिताला परिवार का गढ़ माना जाता है।

चित्तूर जिले में वरिष्ठ तेदेपा नेता और पूर्व मंत्री भोजाला गोपाल कृष्ण रेड्डी के बेटे भोजाना सुधीर रेड्डी श्रीकालाहस्ती से पार्टी के उम्मीदवार होंगे। कृष्ण रेड्डी यहां से पांच पर चुने गए।

गौथु श्याम सुंदर शिवाजी ने श्रीकाकुलम जिला स्थित अपना पलासा चुनाव क्षेत्र अपनी पुत्री गौथु सिरीशा के लिए छोड़ दिया है।

नायडू ने वरिष्ठ नेता जलील खान की पुत्री शबाना खातून को विजयवाड़ा पश्चिम से चुनावी मैदान में उतारने के उनके आग्रह को स्वीकार कर लिया है।

किमिडी नागार्जुन अपनी मां मौजूदा विधायक किमिडी मृणालिनी के उत्तराधिकारी के रूप में चीपुरपल्ली से चुनाव लड़ेंगे।

नायडू ने पूर्व केंद्रीय मंत्री के. येरन नायडू के पुत्री आदि रेड्डी भवानी को राजमुंद्री से चुनाव मैदान में उतारा है। येरन नायडू के पुत्र के. राममोहन नायडू श्रीकाकुलम से लोकसभा सदस्य हैं और वह फिर चुनाव मैदान में उतरने वाले हैं। येरन के भाई के. अटचेम नायडू कैबिनेट मंत्री हैं।

इसी प्रकार कई अन्य नए चेहरे भी चुनावी मैदान में हैं जो किसी न किसी राजनेता के उत्तराधिकारी हैं।

आंध्रप्रदेश की 157 सदस्यीय विधानसभा और प्रदेश के 25 लोकसभा क्षेत्रों के चुनाव के लिए मतदान 11 अप्रैल को होगा।

तेदेपा द्वारा विधानसभा चुनाव के लिए घोषित 126 उम्मीदवारों में 83 मौजूदा विधायकों को शामिल किया गया। सूची में 15 महिला उम्मीदवार शामिल हैं।