देश में निर्मित सामानो को विश्वस्तरीय बनाने के लिए इसकी गुणवत्ता सुधारने पर जोर : मोदी

Featured न्यूज़ ब्रेकिंग न्यूज़ भारत

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री उत्‍पादन से जुडी प्रोत्‍साहन योजना पर उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग- डी पी आई आई टी तथा नीति आयोग के वेबिनार को सम्‍बोधित करते हुए कहा कि देश में निर्मित उत्‍पादों की गुणवत्‍ता में सुधार लाने पर जोर दिया है ताकि उन्‍हें पूरे विश्‍व में और अधिक प्रतिस्‍पर्धी और स्‍वीकार्य बनाया जा सके। उन्‍होंने कहा कि सरकार उद्योगों के साथ मिलकर आधुनिक प्रौद्योगिकी के जरिये ऐसे उत्‍पादों के निर्माण पर काम कर रही है जो उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक अनुकूल, किफायती और टिकाऊ हों।

। इस योजना की शुरूआत उत्‍पादन को बल देने के लिए उद्योगों को प्रोत्‍साहन देकर विभिन्‍न क्षेत्रों में देश को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए की गई है।

उत्‍पादन से जुडी प्रोत्‍साहन योजना के महत्‍व को उजागर करते हुए श्री मोदी ने कहा कि यह विभिन्‍न उद्योगों के लिए आवश्‍यक तंत्र बनायेगी, जिससे उनके उत्‍पादन और गुणवत्‍ता में सुधार होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह योजना उद्योगों की निर्यात क्षमताओं को बढावा देने, रोजगार सृजन और आय में बढ़ोत्‍तरी करेगी। उन्‍होंने कहा कि पी एल आई योजना के लिए बजट में दो लाख करोड रूपये से अधिक का प्रावधान किया गया है और इससे अगले पांच वर्षों में पांच सौ बीस अरब डॉलर मूल्‍य के उत्‍पादों का निर्माण होने की आशा है।

मानवता की सेवा कर रहा है उसकी पूरे विश्‍व में सराहना की जा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की विश्‍वसनीयता और पहचान नई उंचाईयां छू रही है तथा पूरे विश्‍व में भारतीय उत्‍पादों पर भरोसा कई गुना बढ़ गया है। उन्‍होंने उदयोगों से विश्‍व की बदलती अपेक्षाओं के अनुसार उत्‍पाद तैयार करने की अपील की। प्रधानमंत्री ने कहा कि उदयोगों को नवाचार, अनुसंधान और कौशल विकास पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए ताकि देश में ऐसे उत्‍पाद तैयार हो सकें जिनकी पूरे विश्‍व में स्‍वीकार्यता हो।