संसद की कार्यवाही को अल्पमत के हाथों बंधक नहीं रखा जा सकता : भाजपा

भारत

नई दिल्ली : राहुल गांधी के आरोपों का खंडन करते हुए भाजपा ने कहा कि जब आयकर अधिनियम में संशोधन संबंधी विधेयक को सदन में पारित किया गया तो लोकसभा अध्यक्ष ने सारे संसदीय मानदंडों का पालन किया और संसद में कार्यवाही को अल्पमत के हाथों बंधक नहीं रखा जा सकता।
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि हम राहुल गांधी और विपक्षी पार्टियों के आरोपों को पूरी तरह खारिज करते हैं, क्योंकि लोकसभा अध्यक्ष ने सारे संसदीय मानदंडों का पालन किया। आरोप उनके दिवालियेपन को दर्शाते हैं। यद्यपि लोकसभा में वे अल्पमत में हैं, लेकिन वे नहीं चाहते हैं कि कोई भी काम हो।
जावडेकर ने कहा कि संसद में अल्पमत लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बंधक नहीं बना सकता। सब कुछ नियम, कानून, परंपराओं और परिपाटी के अनुसार किया गया। 16 विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल ने आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की और उस तरीके का विरोध किया जिसके तहत कल विधेयक को पारित किया गया। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बाद में सरकार पर उनकी आवाज को दबाने और संसदीय मानदंडों को तोड़ने का आरोप लगाया।
राज्यसभा में प्रधानमंत्री की मौजूदगी के बावजूद विरोध प्रदर्शन के लिए विपक्ष पर निशाना साधते हुए जावडेकर ने कहा कि उन्हें आश्चर्य नहीं होगा अगर वे ये मांग करते हैं कि अगर संसद को चलाना है तो मोदी एक साथ दोनों सदनों में उपस्थित हों।