अफगानिस्तान में स्थायी शांति चाह रहा अमेरिका

0
74

काबुल : अफगानिस्तान में अमेरिका के विशेष दूत जल्माय खलीलजाद ने कहा कि वाशिंगटन देश में एक अंतिम सम्मानजनक शांति समझौते की तलाश में है। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह देश में संघर्षपूर्ण स्थिति की अंतिम ईद है।

टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, खलीलजाद ने रविवार को ट्विटर पर अपना ईद संदेश देते हुए कहा कि वह जानते हैं कि अफगानी शांति के लिए तरस रहे हैं। उन्होंने कहा, हम उनके साथ खड़े हैं। हम एक स्थायी व सम्मानजनक शांति समझौते के साथ एक संप्रभु अफगानिस्तान की दिशा में कड़ी मेहनत कर रहे हैं, ताकि इससे किसी अन्य देश के लिए भी खतरा पैदा न हो।

उन्होंने ट्वीट किया, कई विद्वानों का मानना है कि ईद अल-अजहा का अर्थ किसी के भी अहंकार को खत्म करना करना है। अफगानिस्तान में युद्ध के सभी पक्षों के नेताओं को इसे ध्यान में रखना चाहिए, क्योंकि हम शांति के लिए प्रयास कर रहे हैं।

राष्ट्रपति पैलेस में रविवार को ईद की नमाज के बाद राष्ट्रपति अशरफ गनी ने आश्वासन दिया कि देश में शांति बहाल हो रही है और इसमें कोई संदेह नहीं है।

गनी ने कहा, शांति हर अफगान की मांग है और इसमें कोई संदेह नहीं है कि शांति कायम हो रही है। प्रत्येक अफगानी को गरिमा व प्रतिष्ठा के साथ शांति चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि अगले महीने होने वाला राष्ट्रपति चुनाव देश के लिए महत्वपूर्ण है।

अमेरिका और तालिबान प्रतिनिधि 12 अक्टूबर 2018 से कतर की राजधानी दोहा में देश में 18 साल से चल रहे युद्ध को समाप्त करने के लिए शांति समझौते पर बातचीत कर रहे हैं। दोनों पक्ष बातचीत के आठवें दौर में एक शांति समझौते को अंतिम रूप दिए जाने की उम्मीद में हैं।