जयपुर : प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष मंगलवार को पेशी से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा ने एक भावुक फेसबुक पोस्ट लिखी जिसमें उन्होंने भगवान पर अपना ढृढ़ विश्वास जताया है, जो उन्हें मुश्किल घड़ी से निकलने में मदद करेगा।

वाड्रा अपनी 75 वर्षीय मां मौरीन वाड्रा के साथ ईडी की पूछताछ के संबंध में जयपुर में हैं। वाड्रा ने बताया कि उनकी मां ने एक कार दुर्घटना में अपनी बेटी को खोया, अपने बीमार बेटे को खोया और इसके साथ ही उनके पति भी नहीं रहे।

वाड्रा ने कहा, एक वरिष्ठ नागरिक को उत्पीड़ित करने के इस प्रतिशोधी सरकार के ओछे कदम को समझ नहीं पा रहा हूं।वाड्रा ने कहा, तीन मौतों के बाद मैंने सिर्फ उन्हें (मां मौरीन को) अपने कार्यालय में मेरे साथ समय बिताने के लिए कहा ताकि मैं उनकी देखभाल कर सकूं और हम दोनों अपने दुख से उबर सकें।

वाड्रा ने कहा कि अब उनकी मां को मेरे कार्यालय में समय बिताने की कीमत अदा करनी पड़ रही है। उन पर आरोप लगाया जा रहा है, छवि धूमिल की जा रही है और पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है।

वाड्रा से इससे पहले धनशोधन के एक अलग मामले में दिल्ली के ईडी मुख्यालय में पिछले हफ्ते तीन दिनों तक 24 घंटे से ज्यादा पूछताछ की गई थी।

उन्होंने कहा, अगर सरकार को कुछ समस्या थी, या अवैध कार्य का पता चला था तो फिर सरकार ने आम चुनाव के प्रचार से एक महीने पहले बुलाने के लिए चार वर्ष और 11 माह का समय क्यों लिया। वाड्रा ने कहा, क्या वे सोचते हैं कि भारत के लोग इसे एक चुनावी तिकड़म के रूप में नहीं देखते हैं?

उनकी पत्नी व कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा जयपुर के ईडी कार्यालय अपने पति वाड्रा को छोड़ने गईं और उसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात के लिए उत्तर प्रदेश चली गईं।

उन्होंने कहा, मैंने हमेशा से नियमों का पालन किया और एक अनुशासित नागरिक रहा हूं। मेरे पास कितने भी घंटों की पूछताछ के सामने टिकने और कुछ भी नहीं छुपाने की क्षमता है। मैं सभी प्रश्नों का सम्मान के साथ जवाब दूंगा। उन्होंने कहा,यह भी बीत जाएगा और मुझे मजबूत बनाएगा। उन्होंने अपनी पोस्ट के अंत में लिखा, भगवान हमारे साथ है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here