श्रीनगर :श्रीनगर प्रशासन ने अलगाववादियों द्वारा आहूत विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए रविवार को यहां प्रतिबंध लगा दिए हैं।
शोपियां जिले के गानोपोरा गांव में शनिवार को सेना के काफिले पर भीड़ के हमले के बाद सेना की गोलीबारी में दो युवा प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई थी जबकि आठ अन्य प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे।
इस मामले पर जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से बात की। सीतारमण ने मुफ्ती को आश्वासन दिया कि वह इस घटना के संदर्भ में विस्तृत रिपोर्ट मांगेंगी।
युवा प्रदर्शनकारियों की मौत की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं। पुलिस ने घटना के मामले में प्राथमिकी (एफआईआर) भी दर्ज कर ली है।
सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और मुहम्मद यासीन मलिक की अगुवाई वाले संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने सेना की गोलीबारी में युवाओं की मौत के मामले में रविवार को घाटी में प्रदर्शन का आह्वान किया है।
जिला मजिस्ट्रेट श्रीनगर ने खानयार, रैनावाड़ी, नौहट्टा और एम.आर.गंज पुलिस थानों के अंतर्गत आने वाले इलाकों में प्रतिबंध लगाए हैं।
पुलिस का कहना है कि श्रीनगर के कुछ क्षेत्रों में आंशिक प्रतिबंध भी लगाए गए हैं।
एहतियात के तौर पर बारामूला और बनिहाल के बीच रेल सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here