श्रणवबेलगोला (कर्नाटक)| राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को कर्नाटक के हासन जिले में जैन तीर्थयात्रियों के शहर में गोमतेश्वर की प्रतिमा के अभिषेक का शुभारंभ किया। राष्ट्रपति अपनी पत्नी सविता कोविद के साथ मंगलवार शाम बेंगलुरू पहुंचे और वहां से हेलीकॉप्टर के जरिए बाहुबली गोमतेश्वर पहुंचकर प्रतिमा के महामस्तकाभिषेक उत्सव का शुभारंभ किया। यह एक महत्वपूर्ण जैन महोत्सव है।
अपने उद्घाटन संबोधन में कोविंद ने कहा, “यह भव्य प्रतिमा और जैन धर्म का पूरा दर्शन मूल्यवान है, क्योंकि वे विश्व को शांति की सीख देते हैं।”
देश भर के लाखों श्रद्धालु इस महोत्सव में भाग लेने के लिए श्रवणबेलागोला पहुंचते हैं, जो हर 12 सालों में एक बार मनाया जाता है। इस महोत्सव में 17 मीटर लंबी बाहुबली की प्रतिमा का अभिषेक किया जाएगा।
गोमतेश्वर की प्रतिमा जैन भगवान बाहुबली को समर्पित है।
कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, राज्यपाल वजुभाई वाला, जनता दल (सेक्युलर) के नेता व पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी.देवेगौड़ा भी उत्सव में मौजूद रहे।
उत्सव के दौरान 17 मीटर ऊंची गोमतेश्वर की प्रतिमा को दूध, धी, केसर आदि से अभिषेक किया जाता है।
उत्सव आयोजन समिति के प्रचार प्रमुख पी.वाई.राजेंद्र कुमार ने कहा, “महोत्सव 18 दिनों तक, सात से 25 फरवरी तक बड़े धूमधाम से मनाया जाएगा। पहले नौ दिन विभिन्न जैन रीति रिवाज होंगे और अभिषेक समारोह 17 से 25 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।”
अधिकारियों के मुताबिक, शहर में होने वाले इस विशाल जैन धार्मिक आयोजन में करीब सवा दो लाख लोगों के आने की संभावना है। महोत्सव के लिए शहर को सजाने पर करीब 175 करोड़ रुपये का खर्चा आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here