नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राफेल सौदे में अपनी चोरी मान ली है और यह भी कि विमान के सौदे में बदलाव वायुसेना से बगैर विचार-विमर्श के किए गए।

राहुल ने यह बयान ऐसे समय में दिया है, जब एक दिन पहले सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में एक हलफनामे के साथ राफेल की कीमत सीलबंद लिफाफे में पेश की है।

राहुल ने हिंदी में ट्वीट किया, सुप्रीम कोर्ट में मोदीजी ने मानी अपनी चोरी। हलफनामे में माना कि उन्होंने बिना वायुसेना से पूछे कांट्रैक्ट बदला और 30,000 करोड़ रुपये अंबानी की जेब में डाला।

राहुल की टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब केंद्र सरकार ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के निर्णय से संबंधित विवरण सर्वोच्च न्यायालय को सौंपे हैं, जिसे उसने सार्वजनिक भी किया।

36 राफेल लड़ाकू विमान का ठेका देने से जुड़ी निर्णय प्रक्रिया में उठाए गए कदमों के विवरण शीर्षक वाले दस्तावेज में केंद्र सरकार ने सौदे का बचाव किया है और जोर देकर कहा है कि लड़ाकू विमान की खरीदारी रक्षा खरीदारी प्रक्रिया 2013 में निर्धारित प्रक्रियाओं के अनुरूप हुई है।

राहुल गांधी लगातार मोदी पर यह कहते हुए भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं कि उन्होंने अपने मित्र को लाभ पहुंचाने के लिए यह सौदा किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here