झारखंड : रियायत के बाद शहर से ज्यादा कस्बे गुलजार, महंगी हुई शराब

0
40

रांची : कोरोना संक्रमण के दौर में लॉकडाउन-4 में राज्य में मिली रियायत के बाद राज्य के नगर निगम के क्षेत्रों से ज्यादा कस्बे और ग्रामीण क्षेत्र गुलजार हैं। इस बीच सरकार ने शराब की बिक्री प्रारंभ कर दी है। सरकार ने शराब की कीमतों में वृद्घि करते हुए होम डिलिवरी की सुविधा दी है। इधर, उद्योगों के खुलने के आदेश के बाद कुछ इकाइयों में काम शुरू हो चुका है।

सरकार ने औद्योगिक क्षेत्र में औद्योगिक गतिविधियां, निर्माण कार्य, इससे जुड़ी सभी सामग्री मसलन ईट, सीमेंट, छड़, गोदाम, माल गोदाम को खोलने और ट्रांसपोर्टेशन में छूट दी है, जबकि सरकार के आदेश के बाद हार्डवेयर, बिजली, सेनेटरीवेयर, ग्लास, प्लाइवुड, टाइल्स व टिंबर की दुकानें भी खुल गई है।

किताबें व स्टेशनरी की दुकानें भी गुलजार हुई हैं। इधर, नगर निगम क्षेत्र को छोड़कर पूरे जिले में मोबाइल, घड़ियां, इलेक्ट्रनिक्स जैसे टेलीविजन, सूचना प्रौद्योगिकी (आइटी) से जुड़े उत्पाद जैसे कंप्यूटर, रेफ्रीजरेटर, एयर कंडीशनर, कूलर आदि की दुकानें खुलने से शहर से ज्यादा कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों में बाजार गुलजार हैं।

इस बीच, रांची में औद्योगिक गतिविधियां प्रारंभ हो गई हैं। रांची के कोकर, तुपुदाना, टाटीसिलवे, नामकुम की दो दर्जन से अधिक फैक्ट्रियों में कर्मचारी पहुंचने लगे हैं और उत्पादन के पूर्व गतिविधियां प्रारंभ कर दी है।

हालांकि , उद्यमी बाजार बंद होने के कारण संशय की स्थिति में हैं। उद्यमियों का कहना है कि बाजार बंद होने से सामानों की मांग कहां होगी। कुछ उद्यमी हार्डवेयर, निर्माण कार्य प्रारंभ होने से आशान्वित भी दिखे।

झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स के महासचिव धीरज तनेजा भी कहते हैं, कोई भी उद्यमी यह नहीं चाहेगा कि वह अपने कामगारों को बैठाकर वेतन दें। उम्मीद है कि अब कंपनियां धीरे-धीरे खुलेंगी। निर्माण कार्य प्रारंभ होने से मजदूरों को काम मिलेगा और बाजार गति पकड़ेगा।

इधर, सरकार ने शराब बिक्री प्रारंभ करने का निर्णय लिया है। बुधवार से शराब बिक्री प्रारंभ हो गई, हालांकि लोगों को पहले की तुलना में इसके लिए ज्यादा पैसे चुकाने पड़ रहे हैं। राज्य सरकार ने शराब की कीमतों में 25 फीसदी तक की वृद्घि कर दी है। राज्य में शराब की बिक्री सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक तीन माध्यमों से जाएगी। इसमें काउंटर सेल, होम डिलिवरी और ई-टोकन सिस्टम शामिल हैं।

उत्पाद आयुक्त विनय चौबे ने बताया कि राज्य के नौ बड़े शहरों में दुकानों से और जोमैटो तथा स्वीगी से शराब की होम डिलिवरी होगी। इन शहरों में रांची, बोकारो, धनबाद, देवघर, गिरिडीह, जमशेदपुर, हजारीबाग, रामगढ़ और मेदिनीनगर शामिल हैं। आने वाले दिनों में होम डिलिवरी चलाने वाली और भी कंपनियों को जोड़ा जाएगा।

उन्होंने बताया, 15 जिला मुख्यालयों में शराब की बिक्री दुकानों से और ई-टोकन सिस्टम से भी की जाएगी जबकि ग्रामीण इलाकों में शराब की बिक्री सिर्फ दुकानों से ही होगी।

उत्पाद आयुक्त ने बताया कि शराब में वैट 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 75 प्रतिशत कर दिया गया है। साथ ही स्पेशल एक्साइज डयूटी 10 प्रतिशत बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि शराब दुकानदारों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना अनिवार्य किया गया है।