गिरफ्तारी के कुछ घंटों बाद द्रमुक सांसद आर.एस. भारती जमानत पर रिहा

0
31

चेन्नई : राज्यसभा सांसद और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के नेता आर.एस. भारती को शनिवार सुबह यहां उनके निवास से गिरफ्तारी के कुछ घंटों बाद एक स्थानीय अदालत ने अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया। भारती पर न्यायाधीशों और दलितों के खिलाफ अपमानजनक बयानबाजी करने का आरोप है।

पार्टी कार्यालय में 15 फरवरी को न्यायाधीशों और दलितों के खिलाफ उनके भाषण को अपमानजनक माना गया और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत अथी तमिलार मक्कल काट्ची के नेता कल्याणसुंदरम द्वारा पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई थी।

पत्रकारों से बातचीत में भारती ने कहा कि उनका भाषण सोशल मीडिया पर तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया और उन्हें किसी को संतुष्ट करने के लिए गिरफ्तार किया गया है।

राज्यसभा सांसद ने कहा कि उन्होंने भ्रष्टाचार मामले में तमिलनाडु के उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

इस बीच द्रमुक अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने भारती की गिरफ्तारी की निंदा की और कहा कि पार्टी झूठे मामलों से डरने, दबने वाली नहीं है।

स्टालिन ने कहा कि भारती ने पार्टी कार्यालय में दिए गए अपने भाषण के लिए स्पष्टीकरण दिया था और खेद भी व्यक्त किया था।

स्टालिन ने कहा कि मामले से जुड़ी प्राथमिकी को रद्द करने के लिए मद्रास हाईकोर्ट में दो मामले हैं।

द्रमुक अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री के.पलनीस्वामी की अगुवाई वाली अन्नाद्रमुक सरकार ने भारती को गिरफ्तार करवाया है, जो कि शर्मनाक है।

उन्होंने कहा कि भारती ने सरकार में भ्रष्टाचार के खिलाफ शिकायत की थी और इसलिए उनकी गिरफ्तारी ध्यान हटाने के लिए की गई है।

भारती का समर्थन करते हुए एमडीएमके के महासचिव व सांसद वाइको ने सरकार से मामला वापस लेने की मांग की है।

वाइको ने कहा कि भारती ने अपने विवादित भाषण के लिए खेद व्यक्त किया था।