कोविड-19 : पेरिस में बेघरों के लिए मोबाइल क्लीनिक

0
56

पेरिस : पेरिस में मोबाइल क्लीनिक शहर के बेघरों को मदद मुहैया कराने का काम कर रहे हैं। बेघर लोग कोरोनावायरस महामारी को लेकर उन सबसे कमजोर लोगों का समूह हैं, जिनके स्वास्थ्य की स्थिति काफी अनिश्चित है।

इसी सप्ताह डॉक्टर्स विदआउट बॉर्डर्स (एमएसएफ) के एक चिकित्सक जूलियन एरोन ने एफे न्यूज को बताया, यह सेवा ऐसे रोगियों के लिए उपयोग की जाती है, जिनके पास चिकित्सां में उपयोग होने वाले दस्तावेज नहीं हैं।

एरन कहते हैं कि पेरिस के पड़ोस में स्थित बारबिस के क्लीनिक में करीब 40 या 50 ऐसे लोग गए थे, जिन्हें त्वचा रोग और संक्रमण थे।

उन्होंने कहा, ऐसे रोगी हैं जिन्हें अस्थमा, फेफड़े की समस्या या मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियां हैं और जिनका उपचार नहीं हो रहा है, उन्हें कोविड-19 जैसे वायरस आसानी से अपनी चपेट में ले लेते हैं।

बेघर लोगों को अन्य लोगों की तरह ही स्वच्छता की सलाह दी जाती है, हालांकि उनके लिए अक्सर इन दिशानिर्देशों को पूरा करना कठिन हो सकता है। उन्होंने कहा, जाहिर है अपने हाथ धोने के लिए, आपके पास साबुन और पानी होना चाहिए।

इन मोबाइल क्लीनिक के बाहर मरीजों की लाइन लगती है, फिर नर्स तय करती हैं कि वे परीक्षण के लिए आगे जाएंगे या नहीं। एमएसएफ के मेडिकल कोऑर्डिनेटर एमिली फर्ोे के अनुसार, गुरुवार को टीम ने लैब परीक्षण के लिए 40 कोविड-19 संदिग्धों के नमूने भेजे थे।

इन लोगों के पास जाने और सोने के लिए घर नहीं है, जिसका अर्थ है कि वे खुद को अलग नहीं कर सकते हैं। इनके लिए कुछ आपातकालीन आवास स्थापित किए गए हैं, लेकिन हर किसी को जगह नहीं मिल सकती है।

पेरिस के अधिकारियों के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, फ्रांसीसी राजधानी में पिछले साल 3,500 बेघर लोग थे, हालांकि एनजीओ का कहना है कि इनकी संख्यार 5,000 से ऊपर है।

शुक्रवार को, फ्रांसीसी सरकार के कानूनी सलाह निकाय, राज्य परिषद, ने कहा कि सरकार ने कि आपातकालीन आश्रयों की संख्या 157,000 से बढ़ाकर 170,000 कर दी है। इसके अतिरिक्त, सरकार ने 7,600 होटल कमरे भी उपलब्ध कराए थे।

हाउसिंग मिनिस्ट्री ने उन लोगों के लिए भी 59 विशेष बेघर आश्रम खोले हैं जो कोरोना पॉजिटिव हैं लेकिन उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है। फ्रांस में अब तक 6,520 मौतों के साथ 65,202 कोरोनोवायरस मामले दर्ज किए गए हैं।