शिमला : हिमाचल प्रदेश की पहाड़ियों में सोमवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहे और इस सप्ताह और अधिक बारिश व बर्फबारी की संभावना है।

मनाली स्थित स्नो एंड एवालैंचे स्टडी इस्टैब्लिशमेंट (सेस) ने स्थानीय लोगों और पर्यटकों को ऊंचाई वाली पहाड़ियों खासतौर पर मनाली क्षेत्र के पर्यटन गंतव्यों पर जाने के दौरान ऐहतियात बरतने की सलाह जारी की है क्योंकि यहां हिमस्खलन का खतरा अधिक है।

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, राज्य में 14 फरवरी को बड़े पैमाने पर बारिश और बर्फबारी की संभावना है।

अधिकारियों ने कहा कि क्षेत्र में 12 फरवरी से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है।

उन्होंने कहा कि शिमला, नारकंडा, कुफरी, मनाली और डलहौजी में बर्फबारी हो सकती है।

शिमला से 250 किलोमीटर दूर मनाली में न्यूनतम तापमान शून्य रहा।

लाहौल-स्पीति जिले में स्थित केलांग राज्य में सबसे ठंडा रहा और यहां न्यूनतम तापमान शून्य से 10.8 डिग्री नीचे दर्ज किया गया।

शिमला में न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री रहा। वहीं, किन्नौर के कल्पा में तापमान शून्य से 4.2 डिग्री नीचे, कुफरी में 2.1, डलहौजी में 2.9 और धरमशाला में 4.8 डिग्री रहा।

सेस ने एक बुलेटिन में कहा कि कुल्लू जिले के मनाली स्थित सोलंग स्की स्लोप्स, धुंडी और ब्यास कुंड में हिमस्खलन का खतरा अधिक है। यह चेतावानी सोमवार तक के लिए जारी की गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here