अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- कांग्रेस में अभी भी बनी हुई है आपातकाल की मानसिकता

0
28

Rajpath Desk : भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में 25 जून की तारीख को भूला पाना थोड़ा मुश्किल है। इसी दिन साल 1975 में कांग्रेस की तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार ने देश में आपातकाल लगाने की घोषणा की थी। आज इसके 45 साल पूरे हो गए हैं।

वहीं इसे लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी में अभी भी आपातकाल की मानसिकता बनी हुई है। अमित शाह ने ट्वीट करके कहा, ‘इस दिन 45 साल पहले सत्ता के लिए एक परिवार की सत्ता के भूख ने आपातकाल लागू कर दिया। रातों-रात राष्ट्र को जेल में बदल दिया गया। प्रेस, अदालतें, बोलने की आजादी आदि सब खत्म हो गए। गरीबों और निचले तबके के लोगो पर अत्याचार किया गया।

शाह ने एक और अन्य ट्वीट करके कहा, ‘लाखों लोगों के प्रयासों के कारण, आपातकाल हटा लिया गया था। भारत में लोकतंत्र बहाल हो गया, लेकिन कांग्रेस में नहीं। एक परिवार के हित पार्टी और राष्ट्र के हितों पर हावी थे। यह खेदजनक स्थिति आज भी कांग्रेस में है!

साथ ही कहा कि कांग्रेस में नेता घुटन महसूस कर रहे हैं। भारत के विपक्षी दलों में से एक के तौर पर, कांग्रेस को खुद से पूछने की आवश्यकता है: आपातकाल की मानसिकता क्यों बनी हुई है? ऐसे नेता जो एक वंश के नहीं हैं, बोलने में असमर्थ क्यों हैं? कांग्रेस में नेता क्यों निराश हो रहे हैं? नहीं तो लोगों के साथ उनका संबंध और कम होता जाएगा।

पार्टी के अध्यक्ष जेपी ने नड्डा ने ट्वीट करके लिखा है, भारत उन सभी महानुभावों को नमन करता है, जिन्होंने भीषण यातनाएं सहने के बाद भी आपातकाल का जमकर विरोध किया। ये हमारे सत्याग्रहियों का तप ही था, जिससे भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों ने एक अधिनायकवादी मानसिकता पर सफलतापूर्वक जीत प्राप्त की।