दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना से 23 की मौत, 591 नए मामले

0
14

नई दिल्ली : दिल्ली में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस से 23 लोगों की मृत्यु हो गई। कोरोना से मरने वाले यह सभी लोग दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती थे। अभी तक एक दिन में कोरोना वायरस से दिल्ली में होने वाली है ये सर्वाधिक मौतें हैं। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना वायरस के 591 नए मामले भी आए हैं।

कोरोना वायरस पर आधिकारिक स्वास्थ्य बुलेटिन जारी करते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा, बीते 24 घंटों में 591 नए कोरोना पॉजिटिव रोगियों का पता लगा है। इसी के साथ दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव रोगियों संख्या अब 12,910 तक पहुंच चुकी है। दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या भी बढ़कर 231 हो गई है। शुक्रवार तक यह आंकड़ा 208 तक पहुंचा था, लेकिन बीते 24 घंटे में कोरोना के 23 और रोगियों की मृत्यु हुई है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा, दल्ली में अभी तक कोरोना वायरस की जांच के लिए कुल 1,65,047 लोगों का टेस्ट किया गया है। इनमें से 12910 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इन कोरोना पॉजिटिव रोगियों में से 6267 रोगी अभी तक स्वस्थ हो चुके हैं। शुक्रवार से शनिवार के बीच 370 कोरोना रोगी दिल्ली में स्वस्थ हुए हैं। दिल्ली में फिलहाल 6412 एक्टिव कोरोना रोगी है।

दिल्ली सरकार के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के केस के दोगुना होने की दर करीब 11 दिन के आसपास है। दिल्ली में कोरोना के 184 रोगी आईसीयू में हैं, जबकि उसमें से 27 लोग वेंटिलेटर पर हैं। गौरतलब है कि दिल्ली सरकार उन सभी इलाकों को हॉटस्पॉट मानकर सील किया है जहां कोरोना के 3 से अधिक मामले एक साथ पाए गए हैं।

दिल्ली में अब कुल 86 कोरोना कंटेनमेंट जोन है। इन इलाकों को दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस की मदद से पूरी तरह सील कर दिया है। किसी भी कोरोना कंटेनमेंट जोन या कोरोना हॉटस्पॉट में बाहर का कोई व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सकता। इसी तरह इन कंटेनमेंट जोन में रह रहे लोग भी इस इलाके से बाहर नहीं आ सकते। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि कोरोना का संक्रमण इन क्षेत्रों से निकलकर अन्य इलाकों में न फैल सके।

इसके अलावा दिल्ली सरकार ने 3086 कोरोना पॉजिटिव रोगियों को उनके घर में ही आइसोलेशन में रखा है। दिल्ली सरकार के मुताबिक इन व्यक्तियों को स्वास्थ्य संबंधी कोई बड़ी समस्या नहीं है। सभी को घरों के अंदर आइसोलेशन में रहने को कहा गया है। साथ ही इस दौरान यह लोग लगातार फोन के माध्यम से डॉक्टरों के संपर्क में रहेंगे।